Har Hajat Aur Mushkilat Ka Hal In Hindi

Har Hajat Aur Mushkilat Ka Hal In Hindi ,” यह इस्म मुश्किल कुशाई के लिए बहुत मोअस्सिर है , लिहाज़ा जो शख्स ( “या लतीफु” ) इस इस्म को रोज़ाना 129 बार का मामूल बना ले तो इंशाल्लाह इसका हर जायज काम ( “या लतीफु” )  की बरकत से हो जायेगा और अगर हर नमाज़ के बाद इसे 129 बार पढ़ा जाये तो इसके असरात और तेज़ हो जायेंगे इंशाअल्लाह दिन व दुनिया की हर हाजत पूरी होगी ! औलिया किराम और बुजुर्गो ने इस इस्म की बहुत तारीफ की है

Har Hajat Aur Mushkilat Ka Hal In Urdu

Yah ism mushkil kushai ke liye bahut aserdaar hai , lihaza jo shakhs ( “या लतीफु” )  ko rozaana 129 baar ka maamool bana le to inshaallaah iska har jayaz kaam is ism ki barakat se ho jaayega aur agar har namaaz ke baad ise 129 baar padha jaaye to isake asaraat aur tez ho jaayenge inshaallaah deen aur duniya ki har hajat puri hogi , auliya kiraam aur molviyo me is ism ki bhut tareef ki hai

Leave a Reply

Your email address will not be published.